पुलिस कमिश्नर लव कुमार के सामने नोएडा की कानून-व्यवस्था की चुनौती

शत्रुंजय सिंह रैकवार

उत्तर प्रदेश में बिगड़ती कानून-व्यवस्था को देखते हुए सरकार ने लव कुमार को नोएडा का अपर पुलिस कमिश्नर (कानून-व्यवस्था) पद पर पर तैनात किया है। इसके पूर्व भी लव कुमार नोएडा के एसएसपी रह चुके हैं। लव कुमार प्रदेश के एक ऐसे आईपीएस अफसर हैं, जो 16 साल की सेवा में 33 बार ट्रांसफर का दंश झेल चुके हैं फिर भी अपने उसूलों से कभी समझौता नहीं किया।

एक दशक पूर्व बसपा शासनकाल में बिहार बॉर्डर स्थित जनपद कुशीनगर, जंगल पार्टी जो नारायणी नदी के रेता में अपना साम्राज्य स्थापित कर चुके थे, उनके आतंक से लोग परेशान थे। जंगल दस्यु का नेतृत्व करने वाला चुंबन यादव आतंक का पर्याय बन चुका था। इस दौरान प्रदेश सरकार ने लव कुमार को कुशीनगर की कमान सौंपी। कार्यभार ग्रहण करने के उपरांत लव कुमार ने कहा था कि अब नहीं चलेगा जनपद में चुंबन यादव का फरमान। लव कुमार अपने पुलिसकर्मियों के साथ प्रभावित क्षेत्रों में कोम्बिंग तेज कर दी और धरपकड़ शुरू कर दी।

नतीजा रहा कि जंगल दस्युओं को क्षेत्र छोड़कर पलायन करना पड़ा और स्थानीय ग्रामीण जो जंगल दस्यु के डर से पलायन कर चुके थे, वह पुलिस अधीक्षक लव कुमार द्वारा बसाये गए गणेश नगर में आकर अपना जीवन यापन करने लगे। कुशीनगर जिला प्रशासन ने भी लव कुमार की तारीफ करते हुए इस गांव को सोलर लाइट, शुद्ध पेयजल और अन्य संसाधनों से परिपूर्ण कर दिया। आज भी जनपदवासियों के लबों पे लव कुमार का नाम चर्चा में रहता है।

एक बार पुनः प्रदेश सरकार ने लव कुमार को नोएडा के कानून-व्यवस्था की जिम्मेदारी सौंपी है, जो किसी चुनौती से कम नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *