योगी के खिलाफ कभी रासुका लगाने वाले अफसर जसवीर सिंह निलंबित

लखनऊ (ब्यूरो रिपोर्ट) : आईपीएस अफसर जसवीर सिंह ने एक समय महराजगंज में पुलिस अधीक्षक रहते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को गिरफ्तार किया था. उन्होंने तत्कालीन सांसद के खिलाफ निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के एक मामले में रासुका लगाने की कार्रवाई की थी. अब यूपी सरकार ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है.

बता दें कि जसवीर सिंह मौजूदा वक्त अपर पुलिस महानिदेशक रूल्स एंड मैनुअल पद पर तैनात हैं. उनके खिलाफ सस्पेंशन की कार्रवाई 14 फरवरी को हुई. योगी सरकार आने के बाद से ही जसवीर सिंह साइडलाइन चल रहे थे. दरअसल उन्होंने एक मीडिया संस्थान को इंटरव्यू दिया था, जिसमें उन्होंने अपनी सर्विस से जुड़ी बातें उन्होंने साझा की थी. एक न्यूज पोर्टल पर यह इंटरव्यू प्रसारित हुआ तो सरकार ने इसे गंभीरता से लिया, जिसके बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया.

फिलहाल यूपी सरकार ने इस कार्रवाई के पीछे जसवीर सिंह के विवादास्पद बयान देने और अनाधिकृत रूप से ड्यूटी से गायब होने की वजह बताई है. आरोप है कि इंटरव्यू के दौरान जसवीर सिंह ने ऐसे बयान दिए, जो सरकारी अधिकारियों-कर्मियों के लिए बनाए गए आचरण नियमावली की शर्तों के विपरीत रहा.

जसवीर सिंह सस्पेंशन की पुष्टि करते हुये प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया कि इंटरव्यू में विवादास्पद बयान देने और चार फरवरी से ड्यूटी से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने के यह कार्रवाई की गई. एडीजी ने 30 जनवरी को इंटरव्यू दिया था.

उत्तर प्रदेश काडर के 1992 बैच के अधिकारी जसवीर सिंह मूलतः पंजाब के होशियारपुर निवासी हैं. वह प्रतापगढ़ में एसपी रहते हुए विधायक राजा भैया के खिलाफ कार्रवाई करने पर भी सुर्खियों में रहे थे. जसवीर सिंह के पिता सेना में रहे हैं. उनकी गिनती साफ-सुथरी छवि के पुलिस अफसरों में होती है. उनकी किसी भी सरकार से पटरी नहीं खाई. सरकार सपा-बसपा की रही हो या फिर भाजपा की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *