दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय के पास पहुंचा ‘राफेल’, धनोआ के घर के बाहर तैनात

Lok Sabha Election 2019 में कांग्रेस अध्यक्ष Rahul Gandhi ने राफेल सौदे को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर हमले किए। उन्होंने राफेल सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उद्योगपति अनिल अंबानी की मदद करने का भी आरोप लगाया था।

देश को राफेल जेट की पहली खेप इसी साल मिलने की उम्मीद है। इससे पहले ही वायुसेना अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ के सरकारी आवास के बाहर इस लड़ाकू विमान की एक रेप्लिका (प्रतिकृति) लगाई गई है। दिलचस्प बात यह है कि बीएस धनोआ का घर कांग्रेस मुख्यालय के ठीक बगल में है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल जेट के सौदे में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते रहे हैं और उसकी जांच की मांग कर रही है। इस सिलसिले में पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया है। हाल ही में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि राफेल लड़ाकू विमान सौदे में एफआइआर दर्ज करने या सीबीआइ जांच कराने का सवाल ही नहीं है, क्योंकि शीर्ष अदालत पहले ही इसे क्लीन चिट दे चुकी है।

केंद्र सरकार ने शीर्ष अदालत के 14 दिसंबर के फैसले के खिलाफ दायर पुनर्विचार याचिका को रद करने की मांग की। केंद्र का कहना है कि पुनर्विचार याचिका में लड़ाकू विमान के अत्यधिक कीमत को लेकर जो दलील दी गई है, उसे कैग रिपोर्ट ने गलत साबित कर दिया है। बता दें कि शीर्ष अदालत ने 14 दिसंबर के अपने फैसले में 36 राफेल विमान खरीदने के लिए फ्रांस की दासौ कंपनी के साथ हुए सौदे में केंद्र सरकार को क्लीन चिट दे दी थी।

प्रधान न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने 10 मई को पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी व वकील प्रशांत भूषण ने पुनर्विचार याचिका दायर की है। केंद्र ने कहा कि याचिकाकर्ताओं ने शीर्ष अदालत के 14 दिसंबर के फैसले पर दोबारा विचार किए जाने के पक्ष में कोई ठोस और उचित सुबूत नहीं पेश किए हैं। उन्होंने गलत तरीके से हासिल दस्तावेजों के आधार पर अखबार में प्रकाशित खबरों को ही आधार बनाया है।

बता दें कि शीर्ष अदालत ने दिसंबर के अपने फैसले में 58,000 करोड़ रुपये के राफेल विमान सौदे की जांच की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *