भीषण गर्मी के बीच दिल्ली में तेज हवाएं, कई इलाकों में बारिश ने दिलाई राहत

जून का महीना आग बरसा रहा है. पारा 48 के पार है और दिल्ली वाले बेहाल हैं. राजधानी में गर्मी ने अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. इस बीच आज राहत की खबर है. दिल्ली के कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है, जिसके बाद तापमान में गिरावट आ गया है.

जून का महीना आग बरसा रहा है. पारा 48 के पार है और दिल्ली वाले बेहाल हैं. राजधानी में गर्मी ने अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. इस बीच आज राहत की खबर है. दिल्ली के कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है, जिसके बाद तापमान में गिरावट आ गया है.

सोमवार यानी 10 जून को दिल्ली में पारा 48.0 डिग्री दर्ज किया गया, जो अबतक का सबसे ज्यादा था. इससे पहले रविवार को भी पारा 47.8 पहुंचा था. ना सिर्फ दिल्ली बल्कि समूचे उत्तर भारत यानी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब के कुछ इलाकों में भी हालात कुछ ऐसे ही बने हुए हैं.

पांच साल का अगर रिकॉर्ड देखें, तो पारा लगातार बढ़ता ही गया है. यहां समझें… (जून में सर्वाधिक पारा)

2019: 48.0 डिग्री

2018: 44.9 डिग्री

2017: 47.0 डिग्री

2016: 45.3 डिग्री

2015: 47.8 डिग्री

क्यों बढ़ रहा है पारा?

राजधानी में पारा लगातार बढ़ रहा है, जिसके कई कारण हो सकते हैं. सबसे अहम कारण बताया जा रहा है कि वेस्टर्न डिस्टर्बेंस, क्योंकि पिछले कुछ समय में राजधानी और आसपास के क्षेत्र हवा-आंधी कुछ है ही नहीं, जिससे लोग थोड़ी राहत महसूस कर सकें. इसके अलावा मानसून इस बार दिल्ली पहुंचने में देरी कर रहा है तो वहीं प्री-मानसून बारिश का भी पता नहीं है.

इस बार दिल्ली बूंद-बूंद को तरस रही है, इसी वजह से गर्मी बढ़ रही है. क्योंकि अगर बारिश होती तो पारा गिरने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं. दिल्ली में तो पारा मई में करीब 4 बार 40 के पार पहुंचा तो अब तक जून में 8 बार चालीस का आंकड़ा पार कर चुका है.

कब बदल सकती है तस्वीर?

बता दें कि स्काईमेट के अनुसार, जल्द ही उत्तरी भारत में वेस्टर्न डिस्टर्बेंस दस्तक दे सकता है. इसी की वजह से मध्य पाकिस्तान, उससे सटे राजस्थान के इलाकों में चक्रवाती हवाओं का असर दिख सकता है. इसी के बाद ही उत्तर भारत में तेज हवाएं, आंधी चलने की संभावनाएं हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *