भारत-द. अफ्रीका के बीच दूसरा टेस्ट बेहद रोचक स्थिति में

  • द.अफ्रीका को जीत के लिए 122 रन और चाहिए, उम्मीदें एल्गर पर
  • भारत को जीत के साथ सीरीज अपने नाम करने के लिए 8 विकेट की दरकार
  • पुजारा -रहाणे की शतकीय भागीदारी, ठाकुर और विहारी की बढिय़ा पारी

सत्येन्द्र पाल सिंह

नई दिल्ली : कप्तान सलामी बल्लेबाज डीन एल्गर ने गजब का जीवट दिखाकर मुश्किल वांडरर्स पिच पर बुधवार को 46 रन की जुझारू पारी खेल कर दक्षिण अफ्रीका को भारत के खिलाफ दूसरा क्रिकेट जिताने और तीन मैचों की क्रिकेट सीरीज में एक-एक की उम्मीदें बरकरार रखी। दक्षिण अफ्रीका ने जीत के लिए 240 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए बुधवार को तीसरे का खेल बंद होने तक अपनी दूसरी पारी में दो विकेट खोकर 118 रन बनाए। एल्गर ने अब तक 121 गेंदें खेली हैं और अपनी पारी में मात्र दो चौके ़लगाए हैं जबकि और रॉसी वान डुसेन 11 रन बनाकर डटे थे। दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए 122 रन और चाहिए। वहीं भारत को जीत के साथ 2-0 की बढ़त ले टेस्ट सीरीज अपने नाम कर इतिहास रचने के लिए अब और आठ विकेट की दरकार है। दूसरा क्रिकेट टेस्ट बेहद रोचक स्थिति में है और बृहस्पतिवार को पहला घंटा बहुत अहम होगा। भारत की पहली पारी के 202 रन के जवाब में दक्षिण अफ्रीका ने 229 रन बनाकर 27 रन की बढ़त हासिल की थी। भारत सेंचुरियन मे सीरीज का पहला टेस्ट जीत दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 1-0 की बढ़त बना चुका है।

दक्षिण अफ्रीका के कप्तान एल्गर ने जिस जीवट के साथ भारत के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज के तूफान को झेल दिखाया मुश्किल केवल जवाबी हमला ही टिकने का अकेला तरीका नहीं है। एल्गर ने अपने सलामी जोड़ीदार आइडन मरक्रम (31 रन, 6 चौके, 38 गेंद) के साथ 47 और कीगन पीटरसर(28 रन,44 गेंद, चार चौके) के साथ दूसरे विकेट के लिए 46 रन की भागीदारी कर दक्षिण अफ्रीका की जीत की उम्मीद बनाए रखीं। पहली पारी में दक्षिण अफ्रीका के सात विकेट चटकाने वाले भारत के तेज गेंदबाज शार्दूल ठाकुर ने मरक्रम को और ऑफ स्पिनर अश्विन ने पीटरसन के एलबीडब्ल्यू आउट किया।

अनुभवी चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे की मुश्किल हालात में अपने मिजाज के उलट आक्रामक बल्लेबाजी कर तीसरे विकेट की 111 रन की बेशकीमती साझेदारी और गेंद से कहर बरपाने के बाद शार्दूल ठाकुर की संक्षिप्त 28 रन की विस्फोटक पारी की बदौलत भारत ने अपनी दूसरी पारी में 266 रन बनाए।पुजारा, रहाणे और ठाकुर के आक्रामक तेवरों के बीच अपना छोर संभाल कर अंत तक लंगर डाल कर अविजित रहे हनुमा विहारी ने भी अविजित 40 रन की बेशकीमती पारी खेली। निचलेे क्रम के बल्लेबाजों के सस्तें आउट होने अकेला पड़ जाने पर विहारी ने कुल 84 गेंदे आखिर में आक्रामक तेवर अपनाए और अपनी पारी में कुल छह चौके जड़े। तेज गेंदबाज कसिगो रबाड़ा(3/77), लुंगी एनगिडी(3/42) और मार्को वान जेनसन(3/67) दक्षिण अफ्रीका के कामयाब गेंदबाज रहे।

अपना टेस्ट करियर बचाने के लिए खेल रहे चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे ने तीसरे दिन बुधवार सुबह भारत की दूसरी पारी दो विकेट पर 85 रन से आगे शुरू कर आक्रामक तेवर जारी रख रन बनाने के हर मुमकिन मौके को भुना हाफ सेंचुरी जड़ी। दक्षिण अफ्रीका के सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज कसिगो रबाडा ने लंच से पहले अपने दो ओवर में आठ रन के भीतर पहले रहाणे(58 रन, 78 गेंद, एक छक्का आठ चौके) को शार्ट आफ लेंग्थ और तेजी से बाहर निकलती पर विकेटकीपर वर्नी के हाथों कैच करा कर भागीदारी को तोड़ा। रबाड़ा के अगले ओवर में पुजारा (53 रन, 85 गेंद, उस चौके) उनकी ऑफ स्टंप पर गिर कर तेजी से भीतर आती गेंद सीधे उनके पैड पर लगी और अंपायर ने उन्हें एलबीडब्ल्यू आउट किया और फिर ऋषभ पंत को शॉर्ट गेंद से परेशान करने के बाद क्रीज छोड़ आगे निकल कर शॉट खेलने पर विकेटकीपर वर्नी के हाथों कैच कराया। रबाड़ा द्वारा झटके इन तीन विकेट ने भारत के बड़े स्कोर की उम्मीदों पर पानी फेर दिया था। रविचंद्रन (16 रन, 14 गेंद, 2 चौके) को लुंगी एंगिडी ने ऑफ स्टंप के बाहर गेंद के कट करने पर मजबूर विकेटकीपर वर्नी के हाथों कैच करा और भारत ने लंच तक अपनी दूसरी पारी में छह विकेट 188 रन बनाए। भारत ने लंच से पहले चार विकेट खोए और 103 रन जोड़े।

शार्दूल ठाकुर (28 रन, 24 गेंद, एक छक्का, पांच चौके) ने लंच के बाद आक्रामक तेवर अपनाए और दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज मार्को येनसन की गेंद को उड़ाने के फेर में केशव महाराज के हाथों लपके जाने से पूर्व उनकी खासी धुनाई कर चार चौके और एक छक्का जड़ा। येनसन ने लंच के बाद अपने दो ओवर में पहले शार्दूल ठाकुर और फिर मोहम्मद शमी (0) के हाथों कैच करा कर आठ विकेट पर 228 कर दिया। लुंगी एंगिडी ने जसप्रीत बुमराह (7) और मोहम्मद सिराज (0) को आउट कर भारत की दूसरी पारी 60.1 ओवर में 266 रन पर समेट दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *