भारत की इतिहास रचने की हसरत फिर अधूरी रही

द. अफ्रीका ने दूसरा टेस्ट भी सात विकेट से जीत सीरीज 2-1 से अपने नाम

सत्येन्द्र पाल सिंह

नई दिल्ली : भारत की दक्षिण अफ्रीका को उसके घर में हरा कर टेस्ट सीरीज जीत इतिहास रचने की हसरत एक बार फिर अधूरी रही। भारत को नाजुक मौकों को भुनाने पर चूकने की बड़ी कीमत चुकानी पड़ी। दक्षिण अफ्रीका के हाथों दूसरे की तरह तीसरा और निर्णायक टेस्ट भी सात विकेट से हारने के साथ भारत तीन टेस्ट की सीरीज 1-2 से हार गया। भारत ने सेंचुरियन में सीरीज का पहला टेस्ट 113 रन से जीतने के बाद दक्षिण अफ्रीका से उसके घर में सीरीज जीतने की जो उम्मीद बंधाई थी उस पर अगले दोनों टेस्ट की चारों पारियों में अंतिम पांच और छह विकेट 50 से 60 रन के भीतर गंवा बड़ा स्कोर न खड़ा पाने के कारण पानी फिर गया। भारत को अपने मध्यक्रम के अनुभवी बल्लेबाजों -चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे की उम्मीदों से कहीं ढीली बल्लेबाजी महंगी पड़ी। दक्षिण अफ्रीका की इस जीत में उसके नौजवान बल्लेबाज कीगन पीटरसन ने दूसरे और तीसरे टेस्ट में नाजुक मौकों और खुद कप्तान डीन एल्गर की जीवट से की गई बल्लेबाजी ने अहम भूमिका निभाई।

भारत ने विस्फोटक ऋषभ पंत की बेहतरीन नॉटआउट सेंचुरी की बदौलत दक्षिण अफ्रीका के सामने जीत के लिए दूसरी पारी में मुश्किल दिख रही पिच पर 212 रन का चुनौतीपूर्ण लक्ष्य रखा था। दक्षिण अफ्रीका को निर्णायक टेस्ट के चौथे दिन शुक्रवार को न्यूलैंडस, कैपटाउन में जीत के लिए दूसरी पारी में 111 रन और बनाने थे जबकि भारत जीत के साथ सीरीज जीत इतिहास रचने के लिए आठ विकेट चाहिए थे। भारत के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी ने शुक्रवार सुबह बराबर कीगन पीटरसन और डुसेन को छकाया लेकिन गेंद उनके बल्ले को छकाती लेकिन उनका किनारा लेकर बाहर निकलती रही। मैन आफ द मैच और मैन आफ द सीरीज कीगन पीटरसन की 82 रन की बेहतरीन पारी की बदौलत दक्षिण अफ्रीका ने अपनी दूसरी पारी में तीन विकेट पर 212 रन बना कर न्यूलैंडस, कैपटाउन में सात विकेट से जीत के साथ अपना अजेय रिकॉर्ड बरकरार रखा। भारत को चौथे दिन पीटरसन के विकेट के रूप में एकमात्र सफलता शार्दूल ठाकुर ने उन्हें बोल्ड कर दिलाई। पीटरसन ने आउट होने से पहले करीब तीन घंटे तक क्रीज पर टिक अपनी पारी में दस चौके लगाए। पीटरसन ने आउट होने से पहले डुसेन के साथ तीसरे विकेट के लिए 54 रन जोड़ कर उसकी जीत की नींव रख दी। पीटरसन को पारी के 33 वें ओवर में बुमराह की गेंद पर पुजारा ने स्लिप में जीवनदान भी दिया और उनका यह कैच लपक लिया गया तो शायद टेस्ट और सीरीज का फैसला कुछ और होता। डुसेन और तेंबा बाउमा ने चौथे विकेट के लिए 57 रन की असमाप्त भागीदारी कर उसे जीत दिला कर ही दम लिय। डुसेन तीन चौकों की मदद से 41 और बाउमा पांच चौकों की मदद से 32 रन बनाकर नॉटआउट रहे।

हमारी बल्लेबाजी अच्छी नहीं रही: विराट कोहली
भारत के कप्तान विराट कोहली ने कहा, ‘ यह टेस्ट सीरीज बेहद संघर्षपूर्ण रही। हमने पहले टेस्ट में शानदार खेल दिखा जीत हासिल की। दक्षिण अफ्रीका ने जो दोनों टेस्ट जीते उन्होंने अहम मौकों पर गेंद से शानदार प्रदर्शन किया। नाजुक क्षणों पर हमें एकाग्रता गंवाना महंगा पड़ा जबकि दक्षिण अफ्रीका ने इन्हीं क्षणों का लाभ उठाया और वह जीत की हकदार है। विदेशी दौरे पर हमारे सामने चुनौती लय को बरकरार रखने और उसका लाभ उठाने की होती। जब हम इसे नहीं बनाए रखते तो हमें इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है। मैं कहूंगा कि हमारी बल्लेबाजी अच्छी नहीं रही। हमें अच्छी बल्लेबाजी न करने की कीमत चुकानी पड़ी। लोग रफ्तार और उछाल की चर्चा करते है और दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों को तीनों टेस्ट में अपनी लंबाई के कारण हमसे ज्यादा उछाल मिली। दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों ने हम पर लंबे समय तक दबाव बनाए रख कर हमें गलतियों पर मजबूर किया। दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाज स्थितियों से हमसे बेहतर ढंग से वाकिफ थे। हमें अपनी बल्लेबाजी की बाबत सोचना होगा क्योंकि बार बार हमारी बल्लेबाजी का बिखरना अच्छा नहीं है। लोगों ने हमसे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उसके घर में टेस्ट सीरीज जीतने की आस लगाई थी। हम ऐसा नहीं कर पाए यही हकीकत है। हमें इसे मानकर बेहतद क्रिकेटर के रूप में वापसी करनी होगी। लोकेश राहल ने जिस तरह बतौर ओपनर बल्लेबाजी की वह सुखद है । वहंीं मयंक कई बार अटक गए। गेंदबाजी शानदार रही। ऋषभ पंत की तीसरे टेस्ट में दूसरी पारी और सेंचुरियन में जीत खास रही। हमें सकारात्मक पक्षों को जेहन में रखते हुए आगे बढऩा होगा और बेहतर क्रिकेटर के रूप में वापसी करनी होगी। जहां तक मेरे चोट के कारण दूसरे टेस्ट में टीम की हार की बात है तो मैं यह कहूंगा कि मैं तीसरे टेस्ट में भी खेला तो फिर हम क्यों हार गए। जहा तक इस टेस्ट में निर्णायक मोड़ की बात है तो मैं यही कहूंगा कि हमारे पास ज्यादा रन होते तो हम और बेहतर कर सकते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *