प्रणय को हरा लक्ष्य सेमीफाइनल में, चालिहा पर जीत से सिंधू अंतिम 4 में

आकर्षी ने तोड़ी मालविका की चुनौती

सत्येन्द्र पाल सिंह

नई दिल्ली : बीते बरस दिसंबर में स्पेन में विश्व चैंपियनशिप में कांसाजीतने वाले भारत के लक्ष्य सेन ने अपने ही देश के धुरंधर खिलाड़ी एचएस प्रणय पर 14-21, 21-9, 21-14 से जीत दर्ज कर योनेक्स-सनराइज इंडिया ओपन 2022 पुरुष सिंगल्स सेमीफाइनल में स्थान पक्का किया। लक्ष्य ने इस जीत के साथ बताया कि भारतीय बैडमिंटन में आने वाला कल उनका है। लक्ष्य सेमीफाइनल में शनिवार को मलयेशिया के एनजी त्जे योंग से भिड़ेंगे।

पुरुष सिंगल्स मेंं विश्व चैंपियन लोह कीन यू ने रूस के सर्गेई सिरंत को 21-16, 21-13 से हराकर सेमीफााइनल में जगह बनाई।
शीर्ष वरीयता प्राप्त पीवी सिंधु ने महिला सिंगल्स में शुक्रवार को अश्मिता चालिहा को बैडमिंटन का सबक सिखाते हुए उन पर 21-7, 21-18 से जीत के साथ अंतिम चार में जगह बना ली। वहीं आकर्षी कश्यप ने मालविका बनसोड को लगातार गेमों में 21-12, 21-15 से हरा सेमीफाइनल में स्थान बनाकर उनका शानदार अभियान खत्म कर दिया। बनसोड ने दुनिया की पूर्व नंबर 1 साइना नेहवाल को पहले दौर में हराकर सबका ध्यान अपनी ओर खींचा था। कश्यप का सामना अब दूसरी वरीयता प्राप्त बुसानन ओंगबामरुंगफान से होगा। बुसानन ने दूसरे क्वॉर्टर फाइनल में अमेरिका की लॉरेन लैम को 21-12। 21-8 से हराया।

लक्ष्य सेन और प्रणय के खिलाफ बीच क्वॉर्टर फाइनल में अपने चिर परिचित आक्रामक अंदाज में आगाज कर बहुत जल्द ही शुरुआती बढ़त ले ली। प्रणय ने धीरे-धीरे अपने खेल का स्तर उठाया। उनके डाउन द लाइन स्मैश ने लक्ष्य सेन की योजना पर पानी फेर कर गलतियोंं पर मजबूर किया। एक समय स्कोर 13-13 था और इस समय तक दोनों के बीच अंतर पैदा करने वाली कोई बात नहीं थी। बाद में हालांकि प्रणय ने अगले नौ में से आठ अंक लेकर पहला गेम अपने नाम किया। अगर लक्ष्य सेन इस स्तर पर कोई दबाव महसूस कर रहे थे तो उन्होंने दूसरे गेम की शुरुआत में अपनी सोच बदली और 3-0 की बढ़त बना ली। वहीं प्रणय लगातार गलतियां कर रहे थे। एक समय लक्ष्य ने 4-12 की बढ़त ले ली थी और इससे प्रणय उबर नहीं सके। प्रणय ने हालांकि निर्णायक तीसरे गेम की शुरुआत 6-1 की बढ़त के साथ की। यह अगला अंक था, जिसने संभवत मैच की दिशा बदल दी। लक्ष्य सेन ने प्रणय की स्मैश की झड़ी से खुद को बचाते हुए क्रॉस कोर्ट ड्राइव के साथ अंक हासिल किया। सेन ने ड्रिबल पर शटल को नेट से थोड़ा दूर रखकर और प्रणय के शरीर पर बहुत अधिक हमला बोल अगले 11 में से 9 अंक जीते। प्रणय ने हालांकि स्कोर को 12-12 से बराबर करने में सफलता हासिल की लेकिन वह आगे गति को बनाए नहीं रख सके क्योंकि लक्ष्य सेन ने रैलियों के दौरान अधिक धैर्य दिखाया और उन्होंने इसका अधिकतम लाभ उठाया।

मैच जीतने की बाबत लक्ष्य सेन ने कहा, ‘पहले गेम में हम दोनों वाकई तेज खेल रहे थे। दूसरे गेम के बाद हमने और अधिक रैली खेली लेकिन मैं तब खासा सहज महसूस कर रहा था।’

दिन के दूसरे बड़े मैच में सिंधू आज चालिहा के खिलाफ के लिए काफी जल्दी में दिखाई दे रही थीं। पहले तो उन्होंने शुरुआती गेम को 21-7 से जीत लिया। लेकिन अगर वह यह सोच रही थीं कि दूसरे गेम में भी उन्हें आसान जीत मिल जाएगी तो वह गलत थीं क्योंकि चालिहा बिना लड़े हार मानने को तैयार नहीं थी। चालिहा को लंबे समय से देश में अगली पीढ़ी के शटलरों के बीच एक खास प्रतिभा माना जाता है और असम की इस 22 वर्षीय खिलाड़ी ने अपने कुछ शानदार आक्रमण खेल का प्रदर्शन करते हुए अपनी बेहद मशहूर भारतीय प्रतिद्वंद्वी को दबाव में डाल दिया। सिंधु ने अपने अनुभव के दम पर दूसरे गेम में 15-15 से स्कोर बराबर किया। सिंधु ने अपनी प्रतिद्वंद्वी को कोर्ट पर हर ओर दौड़ाया औऱ इस दौरान चालिहा ने शटल को गेम में बनाए रखने के लिए जंप और डाईव की मदद से अपना पूरा प्रयास झोंका लेकिन वह अंतत: मुकाबले को तीसरे गेम में नहीं ले जा सकीं।

सिंधु का सेमीफाइनल में सामना अब थाईलैंड की सुपनिदा कटेथोंग से होगा। सुपनिदा तेज बुखार के कारण सिंगापुर की जिया मिन येओ के मैच से हटने के बाद क्वॉर्टर फाइनल में वॉकओवर मिला था। इससे पहले आकर्षी कश्यप ने टूर्नामेंट में बनसोड का शानदार सफर खत्म किया। साइना नेहवाल को पहले दौर में परेशान करने वाली बनसोड शुरू से ही नर्वस दिखीं और उनकी प्रतिद्वंद्वी ने अपने अच्छे खेल से यह सुनिश्चित किया कि वह कभी भी सहज ना हो पाएं। कश्यप ने सामान्य से ज्यादा आक्रामक खेल दिखा बनसोड को बहुत सारी बेजां गलतियां करने के लिए मजबूर किया। दूसरे गेम के अंत में बनसोड लंबी रैलियों में प्रतिद्वंद्वी को उलझाने का प्रयास करती दिख रहीं थीं लेकिन तब तक वह 10-18 से पीछे हो चुकी थी और तब तक उनकी वापसी को लेकर बहुत देर हो चुकी थी।

पुरुष युगल में शीर्ष वरीयता प्राप्त मोहम्मद अहसान और हेंड्रा सेतियावान की जोड़ी ने नॉर्वे के टोर्जस फ़्लैटन और वेगार्ड रिखीम पर 21-12, 21-14 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई। दूसरी वरीयता प्राप्त भारत के सात्विक साईराज और चिराग शेट्टी की जोड़ी ने भी सिंगापुर के ही योंग काई टेरी और लोह कीन हेन को 21-18। 21-18 से हराया।

भारतीय जोड़ी अब आठवीं वरीयता प्राप्त फ्रांस फैबियन डेलरू और विलियम विलेगर की जोड़ी से सेमीफाइनल भिड़ेगी। फ्रांसीसी जोड़ी ने एक अन्य क्वॉर्टर फाइनल में आयरलैंड के जोशुआ मैगी और पॉल रेनॉल्ड्स की जोड़ी पर21-9, 23-21 से जीत दर्ज की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *