आरक्षण आंदोलन : रेलवे ट्रैक पर गुर्जरों का महापड़ाव, कई ट्रेनें रद

जयपुर (ब्यूरो रिपोर्ट) : राजस्थान में 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर समाज का आंदोलन सोमवार को चौथे दिन भी जारी है. रविवार को धौलपुर में आंदोलनरत लोगों के हिंसक होने और हवाई फायरिंग के बाद सरकार ने कई इलाकों में शांति व्यवस्था का जिम्मा अर्द्धसैनिक बलों को सौंपने की तैयारी कर ली है. दौसा में अर्द्धसैनिक बलों की सात कंपनियां तैनात की जा रही है और अन्य संवेदनशील इलाकों में भी अर्द्धसैनिक बल भेजने की तैयारी है.

इससे पहले रविवार को हुए हिंसक आंदोलन में एक दर्जन से अधिक पुलिसकर्मी और आमजन घायल हुए थे. आंदोलनरत गुर्जरों ने रेल मार्ग के बाद सड़क मार्ग भी बाधित करते हुए चार राजमार्गों पर जाम लगा दिया. दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पूरी तरह से ठप्प है और सोमवार को कोट रेल मंडल की 6 और ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं. कई जगहों पर हाईवे जाम करने की भी सूचना मिली हैं. उधर, उग्र हुए आंदोलन के बाद दौसा, भरतपुर, धौलपुर, सवाई माधोपुर और करौली में धारा 144 लागू की गई है.

यह हैं रद ट्रेनें
12059 कोटा-निजामुददीन, 12060 निजामुददीन-कोटा जनशताब्दी, 59814 यमुना ब्रिज आगरा-कोटा पैसेंजर, 59813 कोटा-यमुनाब्रिज आगरा पैसेंजर, 54793 सवाईमाधोपुर-मथुरा पैसेंजर, 54794 मथुरा-सवाईमाधोपुर पैसेंजर, 59805 जयपुर-बयाना पैसेंजर, 59806 बयाना-जयपुर पैसेंजर, 69156 मथुरा-रतलाम मेमू, 69155 रतलाम-मथुरा मेमू ट्रेनें 12 फरवरी को रहेंगी रद. 11 और 12 फरवरी को 59811 रतलाम-आगराफोर्ट पैसेंजर और 59812 यमुनाब्रिज आगरा-रतलाम पैसेंजर ट्रेन रद रहेगी.

आंदोलन से लाखों का नुकसान
उत्तर पश्चिमी रेलवे को गुर्जर आरक्षण आंदोलन के चलते अब तक करीब 32 लाख रुपए का नुकसान हो चुका है. इसके अलावा पिछले 4 दिनों में रेलवे की सेवाएं भी बाधित हो रही हैं, जिसकी वजह से हो रहे नुकसान का कोई हिसाब नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *